Home > जानिए क्यों बढ़ जाता है श्राद्ध पक्ष में कौए का...

जानिए क्यों बढ़ जाता है श्राद्ध पक्ष में कौए का महत्व, क्या है इसका पौराणिक रहस्य

जानिए क्यों बढ़ जाता है श्राद्ध पक्ष में कौए का महत्व, क्या है इसका पौराणिक रहस्य

इन्हे भी जरूर देखे

केजरीवाल को डिनर पर बुलाने वाले ऑटोरिक्शा चालक ने कहा-मैॆ मोदी का फैन

Gujarat:गुजरात में शुक्रवार को उस समय राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया, जब दो हफ्ते पहले आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal)...

क्या खड़गे बन सकते हैं कांग्रेस के अध्यक्ष ?, जानिए खड़गे का राजनीतिक सफर

Delhi:अपने गृह राज्य कर्नाटक(Karnataka) में बिना हार के नेता के रूप में लोकप्रिय मपन्ना मल्लिकार्जुन खड़गे(Mapanna Mallikarjun Kharge), जिन्होंने शुक्रवार को कांग्रेस के अध्यक्ष...

Jabalpur: हाई कोर्ट के वकील की आत्महत्या को लेकर भारी बवाल, परिसर में हुई आगजनी, जानें पूरा मामला

लखनऊ डेस्क बलात्कार के मामले में आरोपी टीआई संदीप अयाची की जमानत पर बहस के बाद पीड़ित पक्ष के वकील अनुराग साहू (Anurag Sahu) ने...

लखनऊ डेस्क

हिंदू धर्म की मान्यता के अनुसार पितृपक्ष (Pitru Paksha) में लोग अपने पितरों को पिंड दान करते हैं और उन्हें प्रसन्न करने के लिए ब्राह्मण भोज करवाते हैं। पितृपक्ष में कौए की अहमियत काफी बढ़ जाती है। ऐसी मान्यता है कि कौआ (Crow) यम का प्रतीक होता है। पितृ पक्ष में कौए को खाना खिला कर पितरों को तृप्त किया जाता है। ऐसी मान्यता है कि अगर पितृपक्ष में घर के आंगन में कौआ आकर बैठ जाए तो यह अत्यंत शुभ संकेत होता है और अगर कौआ आपका दिया हुआ भोजन खा लें तो यह अत्यंत शुभ होता है। इसका अर्थ है कि पितृ आपसे बेहद प्रसन्न हैं और आपको ढेर सारा आशीर्वाद देकर गए हैं। आइए जानते हैं पितृपक्ष में कौए का क्या महत्व है।

हिंदू शास्त्रों के मुताबिक कौए को यमराज का संदेश वाहक माना गया है। कौए के माध्यम से ही पितृ आपके पास आते हैं। भोजन करते हैं और आशीर्वाद देते हैं। कौआ यमराज का प्रतीक होता है। पितृपक्ष के दौरान कौए को भोजन खिलाना यानी अपने पितरों को भोजन खिलाने के बराबर होता है। पितृपक्ष में कौए को रोजाना भोजन करवाना चाहिए। इससे आपके हर बिगड़े काम बनने लगेंगे।

पितृ पक्ष के समय यदि कौआ नहीं मिलता है तो आप कुत्ते या गाय को भी भोजन खिला सकती हैं। इसके अलावा पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाने का भी विशेष महत्व है। पीपल को भी पितृ का प्रतीक माना गया है। ऐसे में पीपल को जल अर्पित करके पितरों को प्रसन्न किया जा सकता है।

Must Read

केजरीवाल को डिनर पर बुलाने वाले ऑटोरिक्शा चालक ने कहा-मैॆ मोदी का फैन

Gujarat:गुजरात में शुक्रवार को उस समय राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया, जब दो हफ्ते पहले आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal)...

क्या खड़गे बन सकते हैं कांग्रेस के अध्यक्ष ?, जानिए खड़गे का राजनीतिक सफर

Delhi:अपने गृह राज्य कर्नाटक(Karnataka) में बिना हार के नेता के रूप में लोकप्रिय मपन्ना मल्लिकार्जुन खड़गे(Mapanna Mallikarjun Kharge), जिन्होंने शुक्रवार को कांग्रेस के अध्यक्ष...

Jabalpur: हाई कोर्ट के वकील की आत्महत्या को लेकर भारी बवाल, परिसर में हुई आगजनी, जानें पूरा मामला

लखनऊ डेस्क बलात्कार के मामले में आरोपी टीआई संदीप अयाची की जमानत पर बहस के बाद पीड़ित पक्ष के वकील अनुराग साहू (Anurag Sahu) ने...

मल्लिकार्जुन खड़गे ने पार्टी के शीर्ष पद के लिए किया नामांकन, अब क्या चुनाव से हट सकते हैं थरूर ?

दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर(Shashi Tharoor) ने पार्टी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे(Mallikarjun Kharge) द्वारा पार्टी के शीर्ष पद के लिए अपना नामांकन पत्र...