Home > "सीएम एकनाथ शिंदे आज फिर दिल्ली में 'मुजरा' करने गए...

“सीएम एकनाथ शिंदे आज फिर दिल्ली में ‘मुजरा’ करने गए हैं”-वेदांत-फॉक्सकॉन विवाद पर उद्धव का वार

“सीएम एकनाथ शिंदे आज फिर दिल्ली में ‘मुजरा’ करने गए हैं”-वेदांत-फॉक्सकॉन विवाद पर उद्धव का वार

इन्हे भी जरूर देखे

केजरीवाल को डिनर पर बुलाने वाले ऑटोरिक्शा चालक ने कहा-मैॆ मोदी का फैन

Gujarat:गुजरात में शुक्रवार को उस समय राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया, जब दो हफ्ते पहले आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal)...

क्या खड़गे बन सकते हैं कांग्रेस के अध्यक्ष ?, जानिए खड़गे का राजनीतिक सफर

Delhi:अपने गृह राज्य कर्नाटक(Karnataka) में बिना हार के नेता के रूप में लोकप्रिय मपन्ना मल्लिकार्जुन खड़गे(Mapanna Mallikarjun Kharge), जिन्होंने शुक्रवार को कांग्रेस के अध्यक्ष...

Jabalpur: हाई कोर्ट के वकील की आत्महत्या को लेकर भारी बवाल, परिसर में हुई आगजनी, जानें पूरा मामला

लखनऊ डेस्क बलात्कार के मामले में आरोपी टीआई संदीप अयाची की जमानत पर बहस के बाद पीड़ित पक्ष के वकील अनुराग साहू (Anurag Sahu) ने...

शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे(Uddhav Thackeray) ने बुधवार को अपने उत्तराधिकारी एकनाथ शिंदे(Eknath Shinde) के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बहु-अरब डॉलर के वेदांत-फॉक्सकॉन सेमीकंडक्टर प्लांट सौदे का मुद्दा नहीं उठाने के लिए तीखा हमला किया। वेदांता-फॉक्सकॉन सेमीकंडक्टर प्लांट डील गुजरात से हारने पर बीजेपी और शिंदे धड़े को विपक्ष के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने(Uddhav Thackeray) अलंकारिक रूप से कहा “सीएम एकनाथ शिंदे(Eknath Shinde) आज फिर दिल्ली में ‘मुजरा’ करने गए हैं” महाराष्ट्र की परियोजनाएं दूसरे राज्यों में क्यों जाती हैं? वह इस बारे में पीएम से बात क्यों नहीं करते? क्या उनमें इस पर बोलने की हिम्मत नहीं है ?”

उद्धव ठाकरे(Uddhav Thackeray) गोरेगांव में नेस्को कन्वेंशन सेंटर को पैक करने वाले लगभग 25,000 शिवसैनिकों को संबोधित कर रहे थे। शिवसेना नेता और पूर्व उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने पहले सवाल किया था कि क्या केंद्र सरकार निवेश और मेगा परियोजनाओं को महाराष्ट्र से गुजरात, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य, जहां इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं, की ओर मोड़ने की कोशिश कर रही है।

लेकिन उद्धव गुट इसे भाजपा द्वारा प्रोत्साहित पूंजी की एक बड़ी उड़ान के रूप में देखता है ताकि उद्योगों और वित्त क्षेत्रों में महाराष्ट्र के महत्व को धीरे-धीरे कम किया जा सके, यह दावा करते हुए कि यह कदम अंततः मुंबई को महाराष्ट्र से अलग करने के लिए है। ठाकरे ने भाजपा और शिंदे गुट के विधायकों पर मुंबई को एक आकर्षक अचल संपत्ति की तरह व्यवहार करने का आरोप लगाया।

Report:Manvendra singh

 

Must Read

केजरीवाल को डिनर पर बुलाने वाले ऑटोरिक्शा चालक ने कहा-मैॆ मोदी का फैन

Gujarat:गुजरात में शुक्रवार को उस समय राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया, जब दो हफ्ते पहले आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक अरविंद केजरीवाल(Arvind Kejriwal)...

क्या खड़गे बन सकते हैं कांग्रेस के अध्यक्ष ?, जानिए खड़गे का राजनीतिक सफर

Delhi:अपने गृह राज्य कर्नाटक(Karnataka) में बिना हार के नेता के रूप में लोकप्रिय मपन्ना मल्लिकार्जुन खड़गे(Mapanna Mallikarjun Kharge), जिन्होंने शुक्रवार को कांग्रेस के अध्यक्ष...

Jabalpur: हाई कोर्ट के वकील की आत्महत्या को लेकर भारी बवाल, परिसर में हुई आगजनी, जानें पूरा मामला

लखनऊ डेस्क बलात्कार के मामले में आरोपी टीआई संदीप अयाची की जमानत पर बहस के बाद पीड़ित पक्ष के वकील अनुराग साहू (Anurag Sahu) ने...

मल्लिकार्जुन खड़गे ने पार्टी के शीर्ष पद के लिए किया नामांकन, अब क्या चुनाव से हट सकते हैं थरूर ?

दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर(Shashi Tharoor) ने पार्टी नेता मल्लिकार्जुन खड़गे(Mallikarjun Kharge) द्वारा पार्टी के शीर्ष पद के लिए अपना नामांकन पत्र...