Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

AAP सांसद राघव चड्ढा पर लगा फर्जी दस्तावेज़ कराने का आरोप !

दिल्ली: राजयसभा में 7 अगस्त को देर रात करीब 10 बजे दिल्ली सर्विस बिल पास हो गया। इसी बीच AAP सांसद राघव चड्ढा पर सदन में पेश मोशन में फर्जीवाड़े का आरोप लगाया गया। सांसद राघव चड्ढा ने दिल्ली सर्विस बिल को सिलेक्ट कमेटी के पास भेजने का प्रस्ताव पेश किया था। जिसे लेकर गृहमंत्री अमितशाह ने राज्यसभा में राघव चड्ढा पर आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि मोशन को पेश करने के दौरान राघव चड्ढा ने पांच सांसदों के फर्जी दस्तख़त किये।

- Advertisement -

अमित शाह ने लगाया राघव चड्ढा पर आरोप।

गृहमंत्री शाह ने कहा कि दो मेंबर्स सदन में कह रहे हैं कि उन्होंने हस्ताक्षर नहीं किये। उनके बयान रिकॉर्ड पर लिए जाएं और इस मामले की जांच की जाए। इसपर डिप्टी स्पीकर ने कहा कि इस मामले में उनसे भी चार मेंबर्स ने शिकायत की। हालांकि राघव चड्ढा ने इन आरोपों का खंडन किया है। उन्होंने कहा कि बिल को सिलेक्ट कमेटी के पास भेजने के लिए दस्तखत की जरुरत ही नहीं होती। यह नियम है कि दस्तखत की आवश्यकता ही नहीं होती।

जानकारी अनुसार, दिल्ली सेवा बिल पर पेश प्रस्ताव में 5 सांसदों के नाम दिए गए थे। इनमें नरहरि अमीन, सुधांशु त्रिवेदी, फांगनोन कोन्यक जोकि भाजपा से हैं। इनके अलावा सस्मित पात्रा (बीजू जनता दल) और के. थांबिदुराई (AIADMK) शामिल हैं। सूत्रों के अनुसार इन पाँचों ने राघव चड्ढा के खिलाफ विशेषाधिकार भंग करने के अलग-अलग नोटिस दिए हैं।

क्या है मामला..?

दरअसल, जब दिल्ली सेवा बिल पर चर्चा पूरी हुई तो उपसभापति ने इसे पारित कराने के लिए विपक्षी सदस्यों द्वारा लाये गए अमेंडमेंट को रखना शुरू किया। जिसके बाद राघव चड्ढा का प्रस्ताव आया। यह प्रस्ताव विधेयक को प्रवर समिति में भेजने का था। इसमें समिति के सदस्यों के नाम भी सम्मिलित थे। जिसपर गृहमंत्री अमित शाह ने आपत्ति जताई।

उन्होंने कहा कि ”जनाव ये दोनों सम्मानीय सदस्य कह रहे हैं कि उन्होंने मोशन को साइन नहीं किया। अब ये जांच का विषय है कि मोशन साइन कैसे हुआ। राघव चड्ढा जी ने इसे मूव किया। मान्यवर इनका सिग्नेचर किसने किया। ये जांच का विषय है। मान्यवर ऐसे नहीं चलता। मान्यवर अब ये मामला सिर्फ दिल्ली सरकार में फर्जीवाड़े का नहीं है। सदन के अंदर फर्जीवाड़े का है। मान्यवर मेरा आपसे अनुरोध है कि दोनों सदस्यों का स्टेटमेंट रिकॉर्ड पर लिया जाए। इसकी जांच की जाए ये कैसे हुआ?”

इस आरोप का आम आदमी पार्टी के सांसद राघव चड्ढा ने पूरी तरह से खंडन किया है। उन्होंने किया कि प्रस्ताव पर साइन का कोई नियम ही नहीं है।

 

 

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें