Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

बिहार में ‘सियासी लंच’, क्या FLOOR TEST में हो सकता खेला, RJD खेलेगी अंतिम दांव

बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली NDA सरकार 12 फरवरी को सदन में फ्लोर टेस्ट (FLOOR TEST) का सामना करेगी। फ्लोर टेस्ट से पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) , राष्ट्रीय जनता दल(RJD) और जनता दल (यूनाइटेड) अपने-अपने विधायकों पर पैनी नजर रखे हुए हैं। भाजपा ने जहां विधायकों के लिए ट्रेनिंग सत्र रखा है तो वहीं JDU ने मंत्री के आवास पर विधायकों को लंच का निमंत्रण दिया है। सत्तापक्ष और विपक्ष अपनी-अपनी रणनीति तैयार करने में लग गई हैं। भाजपा ने अपने विधायकों को दो दिन के लिए बोधगया बुलाया है। ट्रेनिंग के बहाने भाजपा 11 फरवरी तक अपने विधायकों को बोधगया में ही रखेगी।

- Advertisement -

JDU ने विधायकों के लिए रखा लंच का प्रोग्राम

आपको बता दें कि जनता दल (यूनाइटेड) ने आज अपने विधायकों को मंत्री श्रवण कुमार के घर पर लंच के लिए बुलाया है। JDU अपने विधायकों को किसी और पार्टी में नहीं जाने देना चाहती है। वहीं, दूसरी तरफ RJD विधायकों की आज यानी शनिवार 3 बजे से पूर्व मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के घर पर मीटिंग रखी गई है। RJD ने अपने विधायकों को 12 फरवरी के दिन सदन में मौजूद रहने का आदेश जारी किया है। कांग्रेस के विधायक अभी भी हैदराबाद में रुके हुए हैं और 16 विधायक 11 फरवरी को पटना पहुंच जाएंगे।

मांझी को NDA में शामिल करने का कोशिश जारी

फ्लोर टेस्ट के पहले NDA में हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा सुप्रीमो जीतनराम मांझी को मनाने की कोशिश जारी है। जानकारी के मुताबिक मांझी को बीजेपी राज्यसभा भेज सकती है। वहीं मांझी नीतीश कैबिनेट में 1 और मंत्री पद की गुहार लगा रहे हैं। दरअसल उनके बेटे को सरकार में मंत्री बनाया गया है। बिहार की 6 राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव हो रहा है जिसमें से NDA की तीन सीटों में से 1 सीट पर मांझी राज्यसभा में जा सकते हैं।

आपको बताते चलें कि, JDU के सुप्रीमो नीतीश कुमार ने 28 जनवरी को नौवीं बार बिहार के CM के रूप में दोबारा शपथ ली थी. नीतीश ने NDA और विपक्षी महागठबंधन ‘INDIA ’ से रिश्ता तोड़कर फिर से बीजेपी के साथ एक नई सरकार बनाई है। नए विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव भी 12 फरवरी को निर्धारित किया गया है और उसी दिन राज्य आर्थिक सर्वेक्षण भी पेश किया जाना है। RJD के अवध बिहारी चौधरी के जगह पर नए विधानसभा अध्यक्ष का भी चुनाव होगा।

वही साल 2023 बजट जो पहले 12 फरवरी को पेश किया जाना था, अब एक दिन बाद पेश किया जाएगा। इस बार का सत्र 11 कार्य दिवस के बाद एक मार्च को ख़त्म हो जाएगा। यह एक हंगामेदार बजट रहने की संभावना है, क्योंकि NDA ने (RJD के) विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया है, लेकिन अभी तक उन्होंने अपना इस्तीफा नहीं दिया है।

बिहार में सीटों की बात करें तो RJD के पास 79 ,BJP  के पास 78 ,JDU के पास 45 ,कांग्रेस-19 , CPI (M-L)- 12, HAM – 4, , AIMIM – 1 और 2 निर्दलीय विधायक हैं। नीतीश कुमार की JDU और बीजेपी के पास अब तक कुल मिलाकर 123 विधायक हैं। यह सरकार बनाने के आंकड़े से एक सीट अधिक है। हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के 4 विधायकों का समर्थन बीजेपी को प्राप्त है, वहीं NDA गठबंधन को एक निर्दलीय विधायक का भी समर्थन प्राप्त है। इस स्थिति में नीतीश NDA के साथ मिलकर सरकार बनाने में बहुमत दिखा सकते हैं।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]