Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

गुजरात दंगे: 17 लोगों की ह*त्या कर लाशें जलाने का था आरोप, सबूत के अभाव में 22 आरोपी बरी !

गुजरात (Gujarat) की एक अदालत ने गोधरा कांड (Godhra incident) से जुड़े एक मामले में 22 आरोपियों को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया है। यह मामला कोर्ट में लगभग 18 साल तक चला। आरोपियों पर दो बच्चे समेत अल्पसंख्यक समुदाय के 17 लोगों को मारने का आरोप था।

- Advertisement -

 

ज्ञात हो कि,  28 फरवरी 2002 में इन लोगों की हत्या की गई थी और सबूत मिटाने के लिए इनकी लाशें भी जला दी गई थीं। आरोपीयों के पक्ष से केस लड़ रहे वकील गोपाल सिंह सोलंकी ने बताया की अदालत ने सभी 22 आरोपियों को सबूत के अभाव में बरी कर दिया है। इनमें से 8 आरोपीयों के मामले की सुनवाई के दौरान मौत हो गई थी।

अरोपियों के खिलाफ ज़िले के दलोल गांव में 2 बच्चे और अल्पसंख्यक समुदाय के 17 लोगों की हत्या और दंगा भड़काने का आरोप लगा था।

 

विदित हो कि, 7 फरवरी 2002 को गोधरा कस्बे के पास भीड़ ने साबरमती एक्सप्रेस की एक बोगी में आग लगा दी थी। इसके बाद ही यह दंगे भड़के थे।  इन दंगों में कुल 59 यात्रियों की मौत हो गई थी। बता दें कि इस मामले में इससे पहले भी गुजरात दंगों के आरोपी सबूतों के अभाव में बरी किए गए हैं।

यहां तक कि बिल्किस बानो रेप और उसके परिवार की हत्या के मामले में सजायाफ्ता कैदियों को भी समय ये पहले जेल से रिहा कर दया गया था। गुजरात दंगा मामले में कई बड़े और नामी आरोपियों को भी कोर्ट ने सबूतों के अभाव में बरी कर दिया।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]