Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

Love Marriage Temples: भारत में 4 ऐसे मंदिर, यहां दर्शन करने से पूरी होती लव मैरिज की मनोकामना..!

वर्तमान समय में प्रेम विवाह का प्रचलन काफी देखने को मिल रहा है। जैसे एक ट्रेंडिंग फैशन हो गया हो। ऐसे में सारे कपल्स यही चाहते हैं कि जिससे प्यार करते हैं उसी से शादी भी करना चाहते हैं। अपने साथी के साथ प्रेम विवाह कर पूरा जीवन बिताना चाहते हैं। इसके लिए लोग लव मैरिज करना ज्यादा पसंद करते हैं। लव मैरिज़ में लोगों का मानना है कि, इसमें लड़का और लड़की एक दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं। एक दूसरे की पसंद-नापसंद को जानते हैं।

- Advertisement -

हालांकि, माता-पिता की सहमति से शादी करना भी श्रेष्ठकर होता है। इसके बावजूद आज की युवा पीढ़ी लव मैरिज में अधिक विश्वास करती है। अगर आप भी प्रेम प्रसंग में है और लव मैरिज करना चाहते हैं, तो इन मंदिरों में एक बार जरूर मत्था टेक आएं। धार्मिक मान्यता के अनुसार, इन मंदिरों में देव दर्शन से लव मैरिज की मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है।

श्री सिष्ट गुरु नाथेश्वर मंदिर भगवान शिव का है मंदिर

श्री सिष्ट गुरु नाथेश्वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक हिंदू मंदिर है। यह तमिलनाडु के कुड्डालोर जिले में थिरुथुरैयूर नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर में पीठासीन देवता भगवान शिव को श्री सिष्ट गुरुनाथेश्वर, पसुपतिश्वरर और थवानेरी आलुदयार के रूप में पूजा जाता है। मान्यता है कि, विवाह में आ रही बाधा हो या विवाह में देरी हो रही हो तो इसके लिए इस मंदिर में विशेष पूजा की जाती है।

वेदपुरीश्वरर मंदिर भगवान शिव को है समर्पित

केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी में वेदपुरीश्वरर मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। वास्तुकला की द्रविड़ शैली में निर्मित मंदिर को 1748 में फ्रांसीसी सैनिकों ने तबाह कर दिया था। यहां भगवान शिव को वेदपुरीश्वर और उनकी पत्नी पार्वती को त्रिपुर सुंदरी के रूप में पूजा जाता है। यहां मान्यता है शिवलिंग स्वयं प्रकट हुआ था। धार्मिक मान्यता है कि, मनचाहे वर से शादी करने के लिए युवतियों को यहां देवी पर चंदन का लेप के साथ साड़ी और थाली अर्पित करना पड़ता है।

श्री मंगलेश्वर मंदिर

तिरुचिरापल्ली जिले से 22 किमी दूर लालगुडी गांव के पास यह प्रसिद्ध मंदिर है। प्रेम विवाह की इच्छा रखने वाले हजारों कपल यहां मंदिर में दर्शन के लिए हर साल पहुंचते हैं। धार्मिक मान्यता है कि, जिन युवतियों का जन्म उत्तरा नक्षत्र में हुआ है, उन पर इस मंदिर में दर्शन करने पर विशेष कृपा बरसती है। इस मंदिर में दर्शन करने मात्र से ही विवाह में आ रही रुकावटें दूर हो जाती है। इस मंदिर के पास ही ‘मंगल्या महर्षि’ नाम के एक ऋषि का भी मंदिर है, जिनका जन्म उत्तरा नक्षत्र में ही हुआ था।

नागपट्टिनम जिले में थिरुमानंचेरी नाम के स्थान के पास श्री कल्याण सुंदरेश्वर मंदिर है। इस मंदिर में भी विवाह संबंधित दोषों को दूर करने के पूजा की जाती है। इस मंदिर का नाम थिरुमानम और चेरी तमिल शब्द है। जिसका शाब्दिक अर्थ है ‘विवाह’ और ‘गांव’। यहां मान्यता है कि भगवान शिव ने देवी पार्वती से इसी स्थान पर विवाह रचाया था। ऐसा कहा जाता है कि देवी पार्वती को श्राप मिला था। देवी पार्वती का ऋषि भरत मुनि के आश्रम में एक इंसान के रूप में पृथ्वी पर जन्म हुआ। इसके बाद भरत मुनि ने भगवान शिव से अपनी बेटी की शादी करने का अनुरोध किया। इस मंदिर में दर्शन करने से भी लव मैरिज जल्द होती है।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें