Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

नेशनल प्लेयर बोलीं- मैं सुसाइड के लिए मजबूर, कोच ने मांगी आधी प्राइजमनी, मना किया तो हरवा दिया

मलखंभ की नेशनल प्लेयर दीपशिखा ने अपने 2 कोच पर गंभीर आरोप लगाए हैं। दीपशिखा का कहना है कि उनके कोच ने उनसे आधी प्राइजमनी मांगी और मना करने पर उन्हें मैच हरवा दिया। बता दें कि ये कोच ही उस मैच के रेफरी थे।

- Advertisement -

दीपशिखा ने कहा, “वहां से वापस आने के बाद मैं इतनी परेशान हो गई कि खेलना छोड़ दिया। मैंने 5 महीने से प्रैक्टिस नहीं की है। हाल में मुझे कॉलेज की टीम में भी नहीं चुना गया।”

 

दीपशिखा ने अब इन आरोपों के साथ अपना वीडियो भी जारी किया है। बता दें कि दीपशिखा महानगर के टोरिया के नरसिंहराव में रहती हैं। वह 10 साल से मलखंब खेल रही हैं। पिछले 6 साल से उन्हें कोच रवि परिहार और अनिल पटेल प्रैक्टिस करा रहे थे। दीपशिखा ने अपने वीडियो में इन पर गंभीर आरोप लगाया है।

 

उन्होंने वीडियो में कहा,” हरियाणा के पंचकुला में आयोजित खेलो इंडिया के लिए 4 जून को टीम जानी थी। इसके लिए मुझे भी चुना गया। खुद कोच ने मां को फोन किया था। उन्होंने कहा था कि इस खेल में 5 लाख रुपए प्राइज मनी है। अगर बेटी जीतती है, तो उसमें से आधा हिस्सा चाहिए। मां ने कह दिया कि बेटी की मेहनत है। तुम्हें पैसे क्यों दें? इसके बाद से ही सबकुछ बदल गया। मुझे खेलने के लिए साथ तो ले गए लेकिन मेरा प्रदर्शन सही से नहीं आंका गया। मुझे हरवा दिया, क्योंकि मैच में मेरे कोच ही रेफरी थे।”

 

‘मैंने अभ्यास बंद कर दिया’
दीपशिखा ने आगे कहा, “पंचकुला से लौटने के बाद मैं 10 से 15 दिन प्रैक्टिस के लिए गई। फिर अभ्यास बंद कर दिया। 22 अगस्त 2022 को नेशनल के लिए ट्रायल हुए। मेरी प्रैक्टिस बंद थी, लेकिन मैंने ट्रायल दिया। वहां भी निर्णायक की भूमिका में कोच रवि और अनिल थे। लेकिन, वहां भी मुझे सिलेक्ट नहीं किया गया। मेरे बारे में बहुत ही गलत बोला। मैं कुछ नहीं बोली और घर आ गई।”

 

 

‘मैं पूरी तरह से टूट गई हूं’
दीपशिखा ने कहा, “22 दिसंबर की घटना के बाद मैं पूरी तरह टूट गई। कोच इतना मेंटल शोषण करते हैं कि अगर कोई बच्चा झेल न पाए तो फांसी लगा ले। मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ। मैं मरने जा रही थी, पर पता नहीं क्या हुआ मैं रात को 3 घंटे की देरी से घर पहुंची। मैंने अपने सारे मेडल और मोमेंटो तोड़ दिए। मैं रातभर रोती रही। अगले दिन सुबह वीडियो बनाए।

 

 

‘मैं चाहती हूं सीएम तक मेरी बात पहुंच जाए’
दीपशिखा कहती हैं, “कोच को जो पैसा दे, वो बेस्ट है और जो पैसा नहीं दे वो बेस्ट नहीं हैं। आप सोचिए कि कोई प्लेयर 10 सालों तक मेहनत करें और उसके साथ ऐसा हो। ये पीड़ा शब्दों में बयां नहीं की जा सकती। मैं चाहती हूं कि मेरा वीडियो खेलमंत्री और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तक पहुंचे। ताकि ऐसे लोगों को सबक मिले और उनको निर्णायक की भूमिका से हटाया जाए।”

 

पिता ने कोच पर की कार्रवाई की मांग

अब पिता संतोष ने डीएम को लेटर सौंपकर कार्रवाई की मांग की है। हालांकि कोच ने इन आरोपों का खंडन किया है। कोच रवि परिहार ने एक न्यूज़ पोर्टल से बातचीत में कहा, “खिलाड़ी दीपशिखा ने जो आरोप लगाए है, वो बेबुनियाद हैं। मेरे लिए सभी खिलाड़ी एक जैसे हैं। मैंने कभी किसी के साथ भेदभाव नहीं किया है।”

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें 

[avatar]