Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu
Hindi English Marathi Gujarati Punjabi Urdu

स्वामी प्रसाद के बयान से सपा का वास्ता नहीं, हम सभी धर्मग्रथों का करते हैं सम्मान: शिवपाल यादव

समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता स्वामी प्रसाद मौर्य अब अलग-थलग पड़ते जा रहे हैं। रामचरितमानस को लेकर दिए उनके बयान से अब पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव शिवपाल यादव ने भी किनारा कर लिया है। शिवपाल ने कहा कि यह उनकी निजी राय है। उनके इस बयान से पार्टी का कोई लेना-देना नहीं है। हमारी पार्टी सभी धर्मग्रथों का सम्मान ककरती है।

- Advertisement -

 

गुरुवार को सर्किट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत में शिवपाल ने कहा, सपा से जुड़े लोग भगवान राम और भगवान कृष्ण, दोनों का ही सम्मान करते हैं। हम उनकी पूजा करते हैं। सपा सभी धर्म और ग्रंथों का सम्मान करती है। भाजपा के लोग बेवजह स्वामी प्रसाद मौर्य के बयान को तूल दे रहे हैं। वैसे स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी कभी ग्रंथ का विरोध नहीं किया है। उन्होंने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखी है।

 

भाजपा नाम बदलने की जगह विकास पर ध्यान दे

इस दौरान शिवपाल ने लखनऊ का नाम बदले जाने के प्रस्ताव और लक्ष्मण जी की मूर्ति लगाए जाने के मामले को लेकर बीजेपी को घेरा। उन्होंने कहा, भाजपा को मूर्ति लगाने और नाम बदलने की बजाय विकास पर फोकस करना चाहिए। नाम बदलने से कुछ नहीं होता है, लोग पुराने नाम ही बोलते रहते हैं।
विधानसभा में अपनी सीट पर भी बोले शिवपाल
विधानसभा में अब आगे की सीट पर बैठने की संभावनाओं पर शिवपाल ने कहा कि वहां मेरी सीट पहले से निर्धारित है। यह पार्टी के नेता तय करते हैं कि किसे कहां बैठना है। इतना जरूर कहना है कि विपक्ष पहले से ही सदन में बहुत मजबूत है। सरकार विपक्ष का उत्पीड़न कर रही है, लेकिन इसे अब बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

विज्ञापन बॉक्स (विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें)

इसे भी पढे ----

वोट जरूर करें

क्या आपको लगता है कि बॉलीवुड ड्रग्स केस में और भी कई बड़े सितारों के नाम सामने आएंगे?

View Results

Loading ... Loading ...

आज का राशिफल देखें